कायाकल्प अवार्ड योजना में डॉ राममनोहर लोहिया महिला चिकित्सालय मण्डल में तीसरे नंबर पर

फर्रुखाबाद। कायाकल्प योजना में एक बार फिर से जनपद के डॉ राममनोहर लोहिया महिला चिकित्सालय को कायाकल्प अवार्ड के लिए चुना गया है। 2018-19 में कायाकल्प अवार्ड प्राप्त कर चुके डॉ राममनोहर लोहिया महिला चिकित्सालय को फिर से मरीजों-तीमारदारों की सुविधाओं में बढ़ोत्तरी के लिए तीन लाख रुपए का अवार्ड मिलेगा। महिला अस्पताल ने 78.7 प्रतिशत अंकों के आधार पर प्रदेश में 20 वां स्थान व मंडल में तीसरा स्थान प्राप्त किया है। बता दें कि प्रदेश में वर्ष 2019-20 कायाकल्प अवार्ड योजना में जिला संयुक्त चिकित्सालय छिबरामऊ को मण्डल में प्रथम व प्रदेश में आठवां स्थान मिला हैं। वहीँ मंडल के कुल 11 जिला अस्पताल कायाकल्प के लिए चयनित किये गये हैं।
डॉ राममनोहर लोहिया महिला चिकित्सालय के सीएमएस डॉ कैलाश दुल्हानी ने बताया कि राज्य स्तरीय कायाकल्प अवॉर्ड स्कीम के तहत उत्तर प्रदेश के सभी 75 जनपदों के 160 जिला स्तरीय चिकित्सालयों ने प्रतिभाग किया था । कुल 77 चिकित्सालयों को पुरस्कार प्राप्त हुआ है जिसमें78.7 प्रतिशत अंक प्राप्त कर प्रदेश में बीसवां स्थान हासिल करने पर 3 लाख रूपये पुरस्कार राशि के लिए चुना गया हैं । डॉ दुल्हानी ने बताया कि अस्पताल मे स्वच्छता व बेहतर रखरखाव के लिए हरसंभव कोशिश जारी है। मरीजों को किसी तरह की परेशानी न हो इसके लिए अस्पताल प्रबंधन हमेशा आगे रहता है। उन्होने बताया कि इस सफलता में पूरी टीम का सहयोग रहा।
चिकित्सालय के क्वालिटी मैनेजर फिरोज अहमद बताते हैं कि केंद्र सरकार के कायाकल्प अवॉर्ड स्कीम के लिए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की राज्य स्तर की टीम संस्थान का चयन करती है। राज्य स्तर की चयन सूची के आधार पर ही लखनऊ से आयी कायाकल्प टीम के अधिकारियों ने डॉ राममनोहर लोहिया महिला चिकित्सालय का निरीक्षण किया। यहां की व्यवस्थाओं ,सुविधाओं और रखरखाव आदि बिंदुओं पर अस्पताल खरा उतरा।
जिला सलाहकार क्वालिटी एश्योरेंस (डीसीक्यूए) डा. शेखर यादव ने बताया – क्वालिटी एश्योरेंस प्रोग्राम द्वारा कायाकल्प एवं NQAS पर कार्य इकाई स्तर से सम्पादित किये जाते है| जिसमे वित्तीय वर्ष 2019-20 में हुए कायाकल्प असेस्मेंट में अवॉर्ड प्राप्त जिला स्तरीय चिकित्सालयों की राज्य स्तर से जारी लिस्ट के अनुसार जिला स्तरीय चिकित्सालयो में डॉ राममनोहर लोहिया महिला चिकित्सालय को पुनः अवॉर्ड प्राप्त हुआ है|
डॉ यादव ने कहा कि इस योजना में अस्पताल का रखरखाव, सेनेटेशन एंड हाईजीन (स्वच्छता), बायो मेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट, इंफेक्शन कंट्रोल, सपोर्टिंग सर्विसेज, हाईजीन प्रमोशन अस्पताल के आसपास का एरिया आदि शामिल हैं। शासन द्वारा जारी चेक लिस्ट से इसकी मानीटरिंग की जाती है। इसमें रैंकिंग सिस्टम लागू किया गया हैं। निर्धारित 70 प्रतिशत से ऊपर रैंक आने पर प्रदेश स्तर पर चयन किया जाता है। जिस जनपद की सबसे अच्छी रैंक होगी उसे 50 लाख रूपये का प्रथम पुरस्कार मिलेगा। दूसरा स्थान आने पर 20 लाख और तीसरे पर 15 लाख रूपये शासन द्वारा दिए जाएंगे। इसके बाद 70 प्रतिशत तक रैंक आने पर 3 लाख रूपये का सांत्वना पुरस्कार दिया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *